अफगानिस्तान: तालिबान ने पड़ोसी देशों को चेताया, कहा- अपने यहां पर अमरीकी सैन्य बेस न बनने दें


अमरीका 11 सितंबर तक अफगानिस्‍तान से अपनी सेना को वापस बुला रहा है। तालिबान का आरोप है कि वह जाने से पहले पड़ोसी देश में एक सैन्य बेस तैयार कर रहा है।

काबुल। अमरीका जल्द अफगानिस्तान(Afghanistan) से अपनी सेना (US Military) को हटाने की तैयारी कर रहा है। सितंबर तक उसकी ये प्रक्रिया जारी रहेगी। इससे पहले वह अफगानिस्तान के पड़ोसी देश में अपने सैन्य बेस तैयार कर रहा है। इसके खिलाफ आतंकी संगठन तालिबान(Taliban) ने विरोध जताया है। एक रिपोर्ट अनुसार पाकिस्तान अमरीका के साथ एक ऐसी डील कर रहा है।

Read More: सीरिया: राष्ट्रपति चुनाव में चौथी बार बशर अल-असद की हुई जीत, भड़का अमरीका

नए सैन्‍य बेस बनाने को लेकर योजना तैयार

तालिबान ने एक बयान जारी कर चेतावनी दी है। उसका कहना है कि अमरीका की ओर से अफगानिस्‍तान के पड़ोसी देशों में आतंकवादियों के खिलाफ नए सैन्‍य बेस बनाने को लेकर योजना तैयार की जा रही हैं। गौरतलब है कि अमरीका 11 सितंबर तक अफगानिस्‍तान से अपनी सेना को वापस बुला रहा है।

Read More: जर्मनी में 12 वर्ष से ज्यादा उम्र वाले बच्चों को लगेगा कोरोना का टीका, सात जून से शुरू होगी बुकिंग

सैन्‍य बेस बनाने संबंधित खबरें झूठी

अफगान ऑनलाइन प्रेस के अनुसार अफगानिस्‍तान में अमरीकी सैन्‍य प्रवक्‍ता सोनी लेजेट ने कहा है कि अमरीका की ओर से पाकिस्‍तान में सैन्‍य बेस बनाने संबंधित खबरें झूठी हैं। इस बीच पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पाक सीनेट में मंगलवार को कहा कि उनका मुल्क अपनी धरती पर अमरीका के अड्डे नहीं बनने देगा। उन्होंने कहा कि अतीत को भूल जाइए, लेकिन वह पाकिस्तानियों को ये आश्वासन देना चाहते हैं कि प्रधानमंत्री इमरान खान जब तक सत्ता में हैं,वे अमरीकियों को अड्डे बनाने की इजाजत नहीं देंगे। गौरतलब है कि अप्रैल में राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अमरीका के सबसे लंबे युद्ध को खत्म करने की घोषणा की थी और यहां से अमरीकी सेना को हटाने का ऐलान किया था।

.

Thanks to News Source by