आज का सम्यक उपयोग करें-डॉ. कुमुदलता


धर्मसभा का आयोजन

बेंगलूरु. श्रीरंगपट्टण के दिवाकर गुरु मिश्री राज दरबार में बुधवार को आयोजित धर्मसभा में साध्वी डॉ. कुमुदलता ने कहा कि हमारे पास केवल ‘आज’ है। ‘आज’ ‘कल’ नहीं है। और ‘आज’ को ‘कल’ होने में समय लगेगा। आज का उपयोग होने के बाद ‘आज’ ‘कल’ में बदल भी जाएगा। तो कोई चिंता की बात नहीं होगी। उपयोग किए बिना ही ‘आज’ यों ही यदि ‘कल’ में बदल गया तो निश्चित ही हम अपने आपको क्षमा नहीं कर सकेंगे।
यह तय है कि ‘आज’ को कल में बदलने से रोका नहीं जा सकता। कोई नहीं रोक सकता। तीर्थंकर भी आज को ‘कल’ में बदलने से रोक नहीं पाए थे। उन्होंने भी उसका उपयोग किया और सिद्ध हो गए। जो उपयोग करता है, बल्कि कहना चाहिए कि जो सम्यक उपयोग करता है, वह सिद्ध हो जाता है। आज ही यथार्थ है। क्योंकि आज ही हमारे सामने है। कल का विचार किया जा सकता है… सोचा जा सकता है… उसमें डुबकी लगाई जा सकती है… पर उसमें जीया नहीं जा सकता। चाहे वह कल बीता हुआ कल हो, या आने वाला, हमारे जीने के लिए उसका महत्व उसके ‘आज’ रहने पर या ‘आज’ बनने पर ही था या होगा। हिन्दी भाषा का कल शब्द महत्वपूर्ण है। चाहे बीते दिन के लिए प्रयोग करना हो या आने वाले दिन के लिए…. दोनों के लिए ‘कल’ शब्द का ही प्रयोग किया जाता है। दोनों कल में कोई विशेष अन्तर नहीं है, जीवन की अपेक्षा से! हॉंलाकि समझ की अपेक्षा से अन्तर है। क्योंकि बीता कल हमारी परीक्षा का प्रश्न पत्र था, जिसकी उत्तरपुस्तिका हमनें कल जमा करवाई थी। ‘आज’ उसका परिणाम है। हम प्रश्नपत्र की उस उत्तर पुस्तिका में ‘आज’ के रूप में अपना परिणाम खोज सकते हैं। बीते कल को देखकर हम आने वाले कल का निर्णय कर सकते हैं। दोनों कल का महत्व इतना ही है। निर्णय तो आज ही करना होगा। सोचना भी आज ही होगा। लाभ हानि के आंकड़े भी आज ही लिखने होंगे। समय का अर्थ ही आज है। जो बीत गया, वह अब समय नहीं रहा। समय की परिभाषा केवल वर्तमान के इर्द गिर्द घूमती है। जो बीत गया या जो आने वाला है, वह इतिहास या भविष्य हो गया। समय वर्तमान की सूचना देता है। क्योंकि उसी पर हमारा अधिकार है। उसे पाने या छोडने का अधिकार हमें नहीं है। हमें केवल उसके उपभोग/उपयोग का अधिकार है। परमात्मा महावीर का सुप्रसिद्ध सूत्र- ‘समयं गोयम मा पमायए’ हमें प्रतिपल जागरूक रहने की सूचना देता है। समिति के मनोज कोठारी ने बताया कि बुधवार को हैदराबाद, चेन्नई और बेंगलूरु से काफी संख्या में श्रद्धालु साध्वी वृन्द के दर्शन करने पहुंचे।



.

Thanks to News Source by