उपचुनाव परिणामों से पहले येडि-सिद्धू के बीच जुबानी जंग


एक-दूसरे को पद से हटाए जाने की कही बात

बेंगलूरु. दो विधानसभा क्षेत्रों में हुए उपचुनाव का परिणाम आने से पहले मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा और कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धरामय्या के बीच जुबानी जंग छिड़ गई है। दोनों ने एक-दूसरे के खिलाफ दावा किया कि चुनाव परिणाम आने के बाद केंद्रीय नेतृत्व उन्हें पद से हटा देगा।इसकी शुरुआत पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने की। पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने फिर कहा कि ‘दिल्ली से मेरे सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक भाजपा येडियूरप्पा को मुख्यमंत्री पद से हटाने की तैयारी कर रही है। भाजपा में मुख्यमंत्री बदलने की चर्चा लंबे समय से होती आ रही है।Ó उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि 10 नवम्बर को उपचुनावों के परिणाम आने के बाद येडियूरप्पा को पद से हटा दिया जाएगा। सिद्धरामय्या ने उपचुनाव जीतने का भी दावा किया।

इस बीच सिद्धरामय्या के बयान पर पलटवार करते हुए येडियूरप्पा ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष होने के बावजूद सिद्धरामय्या गैर-जिम्मेदाराना बयानबाजी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा ‘यह 100 फीसदी तय है कि सिद्धरामय्या के नेतृत्व में कांग्रेस सिरा विधानसभा सीट हार रही है। यहां तक कि राजराजेश्वरी नगर में भी कांग्रेस का शिकस्त खानी पड़ेगी। इसलिए कांग्रेस उन्हें नेता प्रतिपक्ष पद से हटाने के बारे में विचार कर रही है।Ó ऐसे में वे मेरी चिंता छोड़कर अपना पद बचाने का प्रयास करें।येडियूरप्पा ने कहा कि वे सिद्धरामय्या के बयानों पर प्रतिक्रिया नहीं देना चाहते हैं लेकिन वह बार-बार उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाने वाले बयान दोहरा रहे हैं।

अगर भाजपा उपचुनाव जीतती है तो वह मजबूत होगी या कमजोर, परिणाम आने पर सबकुछ स्पष्ट हो जाएगा। मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इस मामले को लकर उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रसाद नड्डा के साथ बातचीत की है।

इस बीच, मेंगलूरु में केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि येडियूरप्पा मुख्यमंत्री पद पर बने रहेंगे। पार्टी के सामने मुख्यमंत्री बदलने का प्रस्ताव नहीं है।मेंगलूरु में जुटे भाजपा नेताप्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में भाग लेने के लिए येडियूरप्पा सहित भाजपा के वरिष्ठ नेता बुधवार को मेंगलूरु पहुंचे। बैठक में ग्राम पंचायत चुनाव के साथ ही दो विधानसभा और एक-एक लोकसभा व राज्यसभा सीट के उपचुनाव के साथ ही मंत्रिमंडल विस्तार सहित अन्य मसलों पर चर्चा होगी।



.

Thanks to News Source by