एक तरफा प्यार में 13 लाख रुपए सुपारी दे करवाई कारोबारी पर फायरिंग


मुख्य साजिशकर्ता और एक शूटर गिरफ्तार

मुंबई. राजस्थान की राजधानी जयपुर के करणी विहार थाना पुलिस ने मुम्बई से जयपुर आए एक कारोबारी पर फायर करने के मामले में मुख्य साजिशकर्ता कमलेश शेषराव शिंदे और शूटर सावन कुमार राजन को गिरफ्तार किया है।
डीसीपी प्रदीप मोहन शर्मा ने बताया कि एकतरफा प्रेम में मुम्बई निवासी कमलेश ने शूटरों को हत्या करवाने के लिए 13 लाख रुपए सुपारी के दिए। शूटरों की एक गोली पीडि़त के हाथ पर लगी, इससे उसकी जान बच गई। मामले में पीडि़त की पत्नी की भूमिका की जांच की जा रही है। डीसीपी शर्मा ने बताया कि आदित्य की मुम्बई में परचूनी की दुकान है और उसके नजदीक कमलेश की बिल्डिंग का निर्माण करवा रहा था। आरोपी कमलेश पीडि़त की पत्नी पर बुरी नजर थी और वह पीडि़त के परिवार को परेशान करने लगा। पीडि़त परिवार सहित जयपुर आ गया था।
एडिशनल डीसीपी रामसिंह ने बताया कि मुम्बई से आदित्य परिवार सहित जयपुर आ गया और अपना सामान भी ले आया। आरोपी कमलेश ने जयपुर में सामान पहुंचाकर जाने वाले लोडिंग वाहन चालक से यहां का पता पूछ लिया। जयपुर आकर आरोपी कमलेश पीडि़त की पत्नी से एक बार मिला। सूत्रों के मुताबिक आरोपी ने पीडि़त की पत्नी को मोबाइल व सिम भी देकर गया। बाद में आदित्य को रास्ते से हटाने के लिए मुम्बई निवासी मंगेश प्रभाकर को 13 लाख रुपए सुपारी दी। मंगेश ने शूटर सावन कुमार व शूटर सौरभ नवल किशोर को हत्या के लिए जयपुर भेजा था।
बाइक खरीदी और पता पूछने के बहाने मारी गोली

एडिशनल डीसीपी ने बताया कि दोनों शूटर मुम्बई से उदयपुर होते हुए 14 जून को जयपुर आ गए। यहां करणी विहार थाना क्षेत्र में राज गेस्ट हाउस में ठहरे। एक पुरानी बाइक भी खरीदी। उक्त बाइक से पीडि़त आदित्य की रैकी की। 16 जून को गांधी पथ स्थित आम्रपाली नगर में एक अपार्टमेंट के नीचे कार की सफाई करते समय दोनों शूटर आदित्य के पास पहुंचे और आदित्य से एक पता पूछा। तभी पिस्टल निकालकर आदित्य पर फायर कर दिया। एक गोली आदित्य के हाथ में लगी और दूसरी कार के पीछे। आरोपी पकड़े जाने के डर से भाग गए।
शूटर सावन कुमार ने राज गेस्ट हाउस में कमरा बुक करवाते समय खुद का मुम्बई का आधार कार्ड दिया। वहीं पीडि़त ने मुम्बई निवासी कमलेश पर जानलेवा हमला करवाने की आशंका जताई। वारदात के बाद दोनों शूटर बाइक सुनसान जगह छोड़कर अलग-अलग निकल गए। सावन कुमार जालौर पहुंच गया, जिसे जालौर से पकड़ा गया। आरोपी कमलेश को मुम्बई से पकड़ा गया। पुलिस ने वारदात में काम ली गई बाइक भी बरामद कर ली है। प्रकरण के खुलासे में डीसीपी वेस्ट साइबर सेल के लक्ष्मीकांत शर्मा का विशेष योगदान रहा।







.

Thanks to News Source by