कोरोना से बचाएंगे 100% ऑर्गेनिक मास्क, हेल्थ के साथ पर्यावरण भी रखेंगे सुरक्षित


– एनोर्ना ने जैविक मास्क की नई रेंज लॉन्च की

– एनोर्ना मास्क 100% आर्गेनिक कॉटन से बने हैं और दोबारा प्रयोग किए जा सकते हैं

– ‘मेक इन इंडिया’ पर्यावरण और समाज के हित में इस पहल के तहत एनोर्ना मास्क का शुरू हुआ उत्पादन

लखनऊ. कोरोना और बढ़ते प्रदूषण से बचने के लिए फेस मास्क ही सबसे कारगर हथियार है, लेकिन बाजार में उपलब्ध नॉन-डिस्पोजेबल मास्क पर्यावरण से खिलवाड़ कर रहे हैं। ऐसे में बाजार 100% ऑर्गेनिक कॉटन से बने मास्क आ गए हैं, जो कोरोना से तो बचाएंगे ही, हेल्थ के साथ पर्यावरण भी सुरक्षित रखेंगे। एनोर्ना इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी भी यह सुनिश्चित कर रही है कि लोगों को ऐसे मास्क उपलब्ध हों।

एनोर्ना इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक शुभांशु कुमार का कहना है कि वर्तमान में कोरोना वायरस के कारण फैलीं महामारी ने बड़े पैमाने पर मास्क की तत्काल मांग पैदा कर दी है। लोगों को यही सलाह दी जाती है कि जब भी अपने घरों से बाहर निकलें तो उन्हें मास्क पहनना चाहिए क्योंकि एहतियात के साथ-साथ एक संवेदनशील व्यक्ति के लिए इस घातक वायरस के संक्रमण से बचने के लिए यही एकमात्र उपाय है। कई कंपनियां मास्क का निर्माण कर रही हैं, लेकिन नॉन-डिस्पोजेबल मास्क से पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचता है। हमें इस खतरे से बचने के लिए एक ऐसे मास्क का विकल्प चुनने की जरूरत है, जिसका सुरक्षित तरीके से दोबारा उपयोग किया जा सके। अब नॉन-डिकंपोजेबल मास्क को ना कहने की ज़रूरत है, जो पूरी पृथ्वी के लिए ज़हर बनता जा रहा है।

उन्होंने इसके लिए जरूरतमंद बच्चों के लिए भी एक पहल शुरू की है जिसके तहत ग्राहक यदि उनके ब्रांड के प्रोडक्ट खरीदता है, तो एक जरूरतमंद बच्चे को मास्क दान होता हैं। उन्होंने कहा कि हम यह सुनिश्चित करते हैं कि आपके द्वारा की गई हर खरीददारी पर हम आपकी ओर से एक बच्चे को आपकी तरफ से मास्क उपहार स्वरुप दें।

.

Thanks to News Source by