गंभीर बीमारियों से बचना है तो मोबाइल चलाते समय इन बातों का रखें विशेष ध्यान


– रेडिएशन के कारण पक्षियों की संख्या दिन पर दिन होती जा रही कम

लखनऊ. आज के समय में लगभग हर व्यक्ति के पास स्मार्टफोन है और मोबाइल टेक्नोलॉजी ने आमजीवन में कई सुख सुविधाएं भी बढ़ा दी है, लेकिन जिस प्रकार हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, उसी प्रकार मोबाइल टेक्नोलॉजी के कुछ नुकसान भी हैं, जिन्हें अच्छे स्वास्थ्य के लिए जान लेना बहुत जरूरी है अन्यथा आगे चलकर आपको बढ़ी समस्या हो सकती है। उत्तर प्रदेश में सबसे स्मार्टफोन यूज किए जाते है क्योंकि यूपी का जनसंख्या अन्य राज्यों के अपेक्षा ज्यादा है। इसलिए यूपी में ज्यादा मोबाइल फोन यूजर्स हैं।

दरअसल स्मार्टफोन से निकलने वाला रेडिएशन लोगों के स्वास्थ्य को बुरी तरह से नुकसान पहुंचाता है। मोबाइल रेडिएशन का सबसे पहले प्रभाव आंखों में जलन व नींद न आने जैसी समस्या के रुप में दिखाई देता है। इस मुद्दे को लेकर भी विशेषज्ञों का मानना हैं कि फोन गलत जगह पर रखने से भी लोग बीमारी की चपेट में आ सकते हैं। आपके लिए मोबाइल रखना स्वास्थ्य के लिए काफी नुकसानदायक साबित हो सकता है।

कई लोग रात में सोते समय अपना मोबाइल तकिए के नीचे रखकर सो जाते हैं। ऐसा कभी भी नहीं करना चाहिए क्योंकि फोन से निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन से सिर दर्द की समस्या बढ़ती है। साथ ही चक्कर आने जैसी समस्या भी हो सकती है। डॉक्टर्स का मानना हैं कि फोन से निकलने वाली रेडिएशन इंसान के लिए काफी हानिकारक होती है। इसलिए आज के समय में ज्यादा रेडिएशन के कारण पक्षियों की संख्या दिन पर दिन कम होती चली जा रही है। रेडिएशन का सबसे बड़ा कारण यह भी है कि मानव जाति की भी आयु दिन पर दिन घटती जा रही है।









.

Thanks to News Source by