चारधाम यात्रा 2020: कोरोना ने रोकी यात्रा की रफ्तार, पूरे सीजन में केवल 2.40 लाख तीर्थयात्रियों ने किए दर्शन


न्यूज डेस्क

Updated Thu, 05 Nov 2020 10:03 PM IST



चारधाम यात्रा 2020: कोरोना ने रोकी यात्रा की रफ्तार, पूरे सीजन में केवल 2.40 लाख तीर्थयात्रियों ने किए दर्शन 13

पढ़ें उत्तराखंड खबर ई-पेपर


आपके सुझावों का स्वागत हैं

Share news/views with us

ख़बर पढ़ें Online

कोविड महामारी के कारण पिछले साल की तुलना में इस बार चारधाम यात्रा में मात्र 7.5 प्रतिशततीर्थ यात्री ही पहुंचे। इस बार प्रदेश सरकार ने खास एहतियात बरतते हुए कोरोना महामारी के बीच यात्रा को संचालित किया। एक जुलाई से चार नवंबर तक चारों धामों में 2.40 लाख तीर्थ यात्री दर्शन कर चुके हैं। जबकि देवस्थानम बोर्ड की ओर से लगभग 2.60 लाख ई-पास जारी किए हैं। शीतकाल के लिए चारों धामों के कपाट बंद होने से 19 नवंबर के बाद यात्रा अगले साल तक के लिए रुक जाएगी।

2013 की आपदा के बाद पिछले साल केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धाम में दर्शन के लिए रिकॉर्ड 32 लाख तीर्थ यात्री पहुंचे थे। चारधाम यात्रा में यात्रियों की संख्या बढ़ने से सरकार भी पर्यटन और तीर्थाटन के लिए सकारात्मक मान रही थी। सरकार को इस साल तीर्थ यात्रियों की संख्या बढ़ने की उम्मीद थी, लेकिन कोरोना महामारी ने उम्मीदों पर पानी फेर दिया है।

यह भी पढ़ें: Char Dham Yatra 2020: शीतकाल के लिए इस दिन बंद होंगे चारधाम के कपाट, देखें Video

संक्रमण फैलने की आशंका के चलते तीर्थ पुरोहितों के विरोध के बावजूद भी सरकार ने एक जुलाई से प्रदेश के लोगों के लिए चारधाम यात्रा को शुरू किया। 25 जुलाई से बाहरी राज्यों के लोगों को भी सशर्त चारधाम यात्रा में आने की अनुमति दे दी गई। चार माह में देवस्थानम बोर्ड ने कुल 2.60 लाख ई-पास किए गए हैं, इनमें से 2.40 लाख तीर्थ यात्री दर्शन कर चुके हैं।

केदारनाथ धाम के कपाट 16 नवंबर, बदरीनाथ के 19 नवंबर, गंगोत्री के 15 नवंबर और यमुनोत्री धाम के 16 नवंबर को बंद होंगे। इसके साथ ही चारधाम यात्रा अगले साल तक के लिए थम जाएगी।

गत वर्ष चारधाम आए तीर्थ यात्री

केदारनाथ -10 लाख

बदरीनाथ -12.45 लाख

गंगोत्री -5.30 लाख

यमुनोत्री -4.65 लाख

सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का पालन कर कोरोना महामारी में भी चारधाम यात्रा का सुचारू रूप से संचालन किया जा रहा है। महामारी के कारण चारधाम यात्रा भी प्रभावित हुई है। सरकार के प्रयासों से महामारी में भी 2.40 लाख श्रद्धालुओं ने चारधाम के दर्शन किए हैं।

– रविनाथ रमन, सीईओ, देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड

सार

  •  पिछले साल की तुलना में 7.5 प्रतिशत तीर्थ यात्री पहुंचे
  • कपाट बंद होने से 19 नवंबर के बाद रुक जागी चारधाम यात्रा
  • एक जुलाई से चार नवंबर तक 2.40 लाख लोगों ने किए दर्शन

विस्तार

कोविड महामारी के कारण पिछले साल की तुलना में इस बार चारधाम यात्रा में मात्र 7.5 प्रतिशततीर्थ यात्री ही पहुंचे। इस बार प्रदेश सरकार ने खास एहतियात बरतते हुए कोरोना महामारी के बीच यात्रा को संचालित किया। एक जुलाई से चार नवंबर तक चारों धामों में 2.40 लाख तीर्थ यात्री दर्शन कर चुके हैं। जबकि देवस्थानम बोर्ड की ओर से लगभग 2.60 लाख ई-पास जारी किए हैं। शीतकाल के लिए चारों धामों के कपाट बंद होने से 19 नवंबर के बाद यात्रा अगले साल तक के लिए रुक जाएगी।

2013 की आपदा के बाद पिछले साल केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धाम में दर्शन के लिए रिकॉर्ड 32 लाख तीर्थ यात्री पहुंचे थे। चारधाम यात्रा में यात्रियों की संख्या बढ़ने से सरकार भी पर्यटन और तीर्थाटन के लिए सकारात्मक मान रही थी। सरकार को इस साल तीर्थ यात्रियों की संख्या बढ़ने की उम्मीद थी, लेकिन कोरोना महामारी ने उम्मीदों पर पानी फेर दिया है।

यह भी पढ़ें: Char Dham Yatra 2020: शीतकाल के लिए इस दिन बंद होंगे चारधाम के कपाट, देखें Video

संक्रमण फैलने की आशंका के चलते तीर्थ पुरोहितों के विरोध के बावजूद भी सरकार ने एक जुलाई से प्रदेश के लोगों के लिए चारधाम यात्रा को शुरू किया। 25 जुलाई से बाहरी राज्यों के लोगों को भी सशर्त चारधाम यात्रा में आने की अनुमति दे दी गई। चार माह में देवस्थानम बोर्ड ने कुल 2.60 लाख ई-पास किए गए हैं, इनमें से 2.40 लाख तीर्थ यात्री दर्शन कर चुके हैं।


अन्य खबरे

शीतकाल के कपाट बंद होने से थम जाएगी यात्रा

.

Thanks to News Source by