दस्तक अभियान के दौरान टीबी रोगियों की भी होगी खोज


जनपद में 12 से 25 जुलाई तक चलेगा दस्तक अभियान

सूचना देने और टीबी की पुष्टि पर आशा को मिलेंगे 500 रूपये

लखनऊ, जिले में 12 से 25 जुलाई तक दस्तक अभियान चलाया जाएगा, जिसके तहत घर-घर बुखार के रोगियों के साथ टीबी के मरीज भी ढूंढे जाएंगे। यह जानकारी जिला क्षय रोग अधिकारी डा. ए.के.चौधरी ने दी । उन्होंने बताया- दस्तक अभियान के तहत आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर – घर जाकर इंफ्लूएंजा लाइक इलनेस (आईएलआई) के मरीजों, बुखार के मरीजों, क्षय रोग के लक्षण वाले मरीजों और कुपोषित बच्चों की सूची तैयार करेंगी। इस दौरान मिलने वाले टीबी के संभावित रोगियों की जांच कराई जाएगी और पुष्टि होने पर इलाज शुरू कराया जाएगा । इससे पहले मार्च में चलाये गए दस्तक अभियान के दौरान भी आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर – घर जाकर बुखार और टीबी के रोगियों, कुपोषित बच्चों , दिमागी बुखार से दिव्यांग हुए व्यक्तियों और जन्म और मृत्यु पंजीकरण से वंचित लोगों की सूची बनायी थी । अभियान के दौरान टीबी के मरीज की सूचना देने और बीमारी की पुष्टि होने पर आशा कार्यकर्ता को प्रति मरीज 500 रूपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी ।

जिला क्षय रोग अधिकारी ने बताया – प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के देश को वर्ष 2025 तक टीबी से मुक्त करने के संकल्प को पूरा करने के लिए भरसक प्रयास किये जा रहे हैं । देश से टीबी को वर्ष 2025 तक हम तभी समाप्त कर पायेंगे जब टीबी के रोगियों को ढूंढकर उनका पूरा इलाज सुनिश्चित करा पायें। उन्होंने बताया- अभी तक हम टीबी रोगियों को एक्टिव केस फाइंडिंग (एसीएफ) अभियान के माध्यम से ढूँढ़ते थे जो कि साल में दो बार चलाया जाता है। एसीएफ जिले को 10 फीसद जनसँख्या को ही कवर करता है जबकि दस्तक अभियान के तहत 100 फीसद आबादी कवर होती है। इसलिए लगभग पूरे जिले को कवर करते हुए टीबी के रोगी ढूँढे जायेंगे।

राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के पब्लिक प्राइवेट मिक्स (पीपीएम) समन्वयक रामजी वर्मा ने बताया- दस्तक अभियान में आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर – घर जाकर लोगों से बुखार सहित टीबी के लक्षणों के बारे में पूछेंगी। संभावित रोगियों की जानकारी मिलने पर इसकी सूचना एएनएम के माध्यम से ब्लाक तथा राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के स्टाफ को देंगी। तत्पश्चात ऐसे लोगों की टीबी की जाँच कराई जाएगी और क्षयरोग चिन्हित होने पर पर उनका निःशुल्क इलाज शुरू किया जायेगा । जिला क्षय रोग अधिकारी ने बताया- जिले में वर्ष 2017 में 13,425 , 2018 में 18,853, 2019 में 24,830 और 2020 में 17,321 क्षय रोग के मरीज थे। जनवरी 2021 से अभी तक जिले में क्षय रोग के कुल 8314 मरीज हैं | इन मरीजों को इलाज के दौरान बेहतर पोषण के लिए 500 रूपये प्रतिमाह बैंक खाते में दिए जाते हैं।






Show More


























.

Thanks to News Source by