दिल्ली के उपमुख्यमंत्री का आरोप: कैप्टन की नाकामियों पर पर्दा डालने के लिए मोदी सरकार कर रही है प्रयास: सिसोदिया


नई दिल्ली3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • कैप्टन सरकार ने पंजाब में 800 से ज्यादा सरकारी स्कूल किए बंद

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की ओर से हाल ही में जारी स्कूल एजुकेशन रैंकिंग रिपोर्ट पर सवाल उठाया। सिसोदिया ने कहा कि ये रिपोर्ट केंद्र की मोदी सरकार और पंजाब की कैप्टन सरकार की 2022 के चुनावों से पहले की जुगलबंदी को दिखाता है। क्योंकि जिस राज्य के स्कूलों में शराब की फैक्ट्री पाई गई हो, 2-3 वर्षों में 800 सरकारी स्कूलों को बंद करना पड़ा हो उसे नंबर1 का तमगा देना सिर्फ और सिर्फ राजनीति जुगलबंदी का हिस्सा है।

सिसोदिया ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा जारी रिपोर्ट में पंजाब के खस्ताहाल पड़े सरकारी स्कूल जिनमें न बुनियादी ढांचे है और न ही बुनियादी सुविधाएं उन्हें शानदार बता रही है और दिल्ली के स्कूलों को बेकार बता रही है। ये रिपोर्ट पंजाब के चुनाव से पहले कैप्टन सरकार को मोदी जी के आशीर्वाद के रूप में मिला है। पिछले पंजाब चुनाव से पहले भी कैप्टन साब को मोदी जी का आशीर्वाद मिला था कैप्‍टन साहब को और इस बार भी इसकी भूमिका बनानी शुरू कर दी गई है।

सिसोदिया ने पंजाब के सरकारी स्कूलों की बदहाल स्थिति के बारे में बताते हुए कहा कि पंजाब के सरकारी स्कूलों में न पढ़ाई हो रही है, न ही उनके बुनियादी ढांचे को सुधारने पर कोई काम किया गया है। उपमुख्यमंत्री ने पंजाब के सरकारी स्कूलों की असलियत बताते हुए कहा कि सरकारी स्कूलों के बदतर हालात के कारण पंजाब में अभिभावकों को अपने बच्चों को मजबूरी में प्राइवेट स्कूलों में पढ़ना पड़ रहा है। कैप्टन सरकार इस कदर नाकाम हो चुकी है कि पंजाब में पिछले 2-3 साल में ही 800 से ज़्यादा सरकारी स्कूलों को बंद करना पड़ा है।

खबरें और भी हैं…



Source link