प्रमोशन: 76 लापता बच्चों को ट्रेस कर पूरा किया टारगेट, महिला हेड कांस्टेबल को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन

प्रमोशन: 76 लापता बच्चों को ट्रेस कर पूरा किया टारगेट, महिला हेड कांस्टेबल को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन 1
प्रमोशन: 76 लापता बच्चों को ट्रेस कर पूरा किया टारगेट, महिला हेड कांस्टेबल को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन 2


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली20 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

लापता बच्चों को ट्रेस करने पर एक महिला पुलिसकर्मी को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिया गया है। इस महिला पुलिसकर्मी का नाम है सीमा ढाका जो आउटर नार्थ डिस्ट्रिक के समयपुर बादली थाने में तैनात है। उन्हें यह सम्मान दिल्ली पुलिस एक स्कीम के तहत दिया गया है, जिन्होंने दिल्ली समेत कई राज्य से लापता 76 बच्चों को ट्रेस किया।

इस हेड कांस्टेबल द्वारा ट्रेस किए गए लापता बच्चों में से 56 चौदह साल से कम उम्र के हैं। लापता बच्चों को ट्रेस कर आउट ऑफ टर्न प्रमोशन पाने वाली यह दिल्ली पुलिस में पहली महिला पुलिसकर्मी बन गयी है। लापता बच्चों को ट्रेस करने को लेकर पुलिस आयुक्त ने इस साल पांच अगस्त को इनसेंटिव स्कीम लांच की थी, जिसके तहत कहा गया था जो कोई भी कांस्टेबल या हेड कांस्टेबल पचास या उससे ज्यादा बच्चों को ढूंढ निकलेगा उसे आउट ऑफ टर्न प्रमोशन या जाएगा।

इन बच्चों की उम्र सीमा चौदह साल से कम रखी गई और पंद्रह ऐसे बच्चों को ढूंढना था जिनकी उम्र आठ साल से कम हो। सालभर में पंद्रह से ज्यादा बच्चों को ट्रेस करने के लिए पुलिसकर्मियों को असाधारण कार्य पुरस्कार से नवाजे जाने की बात भी कही गई थी।

ढाई महीने के भीतर ही इस महिला हेड कांस्टेबल ने बच्चों को ढूंढने के लिए मिले टारगेट को पूरा कर लिया। इन्होंने दिल्ली के अलावा पंजाब और वेस्ट बंगाल से लापता बच्चों को ट्रेस करने में कामयाबी पाई। हेड कांस्टेबल सीमा ढाका तीन जुलाई साल 2006 में दिल्ली पुलिस में बतौर कांस्टेबल भर्ती हुई थी। प्रमोशन होने पर वह हेड कांस्टेबल बनी जिसके बाद उनकी पोस्टिंग साल 2012 तक साउथ ईस्ट डिस्ट्रिक में रही।



Source link