बाबा रामदेव के बयान का विरोध: डाक्टर आज काली पट्टी बांधकर करेंगे काम, डिप्टी कमिश्नर को सौंपेंगे ज्ञापन 15

बाबा रामदेव के बयान का विरोध: डाक्टर आज काली पट्टी बांधकर करेंगे काम, डिप्टी कमिश्नर को सौंपेंगे ज्ञापन

बाबा रामदेव के बयान का विरोध: डाक्टर आज काली पट्टी बांधकर करेंगे काम, डिप्टी कमिश्नर को सौंपेंगे ज्ञापन 16


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फरीदाबादएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
आईएमए फरीदाबाद की प्रधान डा. पुनीता हसीजा ने बाबा रामदेव की बयान की आलोचना की।- प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar

आईएमए फरीदाबाद की प्रधान डा. पुनीता हसीजा ने बाबा रामदेव की बयान की आलोचना की।- प्रतीकात्मक फोटो।

एलोपैथी के खिलाफ बाबा रामदेव की ओर से की जा रही बयानबाजी के खिलाफ आईएमए हरियाणा के आह्वान पर फरीदाबाद के सभी डॉक्टर 2 जून को काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। इस दौरान डिप्टी कमिश्नर को ज्ञापन भी देंगे।

आईएमए फरीदाबाद की प्रधान डा. पुनीता हसीजा एवं मीडिया प्रभारी डा. सुरेश अरोड़ा के अनुसार कुछ दिन से बाबा रामदेव एलोपैथी डॉक्टरों के खिलाफ कई तरह की वीडियो में अलग-अलग बयान देकर उनका अपमान कर रहे हैं। ऐसा कह रहे हैं कि एलोपैथी एक दिवालिया और बेकार साइंस है। उन्होंने ऐसा भी कहा है कि मॉडर्न मेडीसिन के डॉक्टरों ने लाखों मरीजों को कोरोना का इलाज करते हुए मार दिया। उनका कहना है कि इतने मरीज बिना ऑक्सीजन के नही मरे होंगे, जितने इन्होंने ऑक्सीजन देकर मार दिए। वह मरीजों को बुखार व दर्द की दवाई देने पर मॉडर्न मेडीसिन के डॉक्टरों को बेवकूफ कहकर संबोधित कर रहे हैं।

डा. पुनीता हसीजा ने कहा कि रामदेव सरकार की बनाई गई नीति और उनके इलाज की पद्धतियों में विश्वास नहीं रखते और वैक्सीनेशन की पॉलिसी में भी विश्वास नहीं करते। इससे प्रधानमंत्री और उनकी सरकार और सभी माडर्न मेडीसिन के डॉक्टरों का उपहास कर रहे हैं और उनकी सरासर बेइज्जती कर रहे हैं। हम सभी डॉक्टर मांग करते हैं कि सरकार को तुरंत उनके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए और उनके खिलाफ एपिडेमिक एक्ट के तहत केस दर्ज होना चाहिए। बाबा के इन कथनों से सभी डॉक्टरों का मनोबल टूटा है। जिन डॉक्टरों की मरीजों का इलाज करते समय कोरोना से मृत्यु हुई है उनके परिवारों में बहुत रोष है।

खबरें और भी हैं…



Source link