मीटिंग: जीएमडीए की 3 साल बाद पहली बार हुई रेजिडेंट एडवाइजरी काउंसिल की बैठक 13

मीटिंग: जीएमडीए की 3 साल बाद पहली बार हुई रेजिडेंट एडवाइजरी काउंसिल की बैठक

मीटिंग: जीएमडीए की 3 साल बाद पहली बार हुई रेजिडेंट एडवाइजरी काउंसिल की बैठक 14


गुडगांव15 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
मीटिंग: जीएमडीए की 3 साल बाद पहली बार हुई रेजिडेंट एडवाइजरी काउंसिल की बैठक 15

जीएमडीए के गठन के बाद तीन साल में रेजिडेंट एडवाइजरी काउंसिल (आरएसी) की गुरुवार को दूसरी बैठक हुई। यह बैठक जीएमडीए के सीईओ वीएस कुंडू की अध्यक्षता में लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस में हुई । बैठक में शहर के विकास को लेकर विभिन्न मुद्दों और परियोजनाओं पर चर्चा हुई। बैठक की शुरूआत में पहली बैठक के दौरान आरएसी के सदस्यों द्वारा उठाए गए मुद्दों पर लिए गए संज्ञान पर चर्चा हुई। इसके बाद जीएमडी के बजट को लेकर भी चर्चा की गई।

बैठक में अधिकारियों ने शहर में चल रही प्राधिकरण की परियोजनाओं को लेकर भी रिपोर्ट कमेटी के सदस्यों के सामने पेश की। मोबिलिटी प्लान को लेकर आरएसी के कई सदस्यों ने अपने सुझाव दिए। इसमें मेट्रो के विस्तार और सड़कों के निर्माण को लेकर विचार रखे गए।

शहरी पर्यावरण को लेकर भी बैठक में चर्चा हुई। अधिकारियों ने बताया कि जल्द प्रदूषण को कम करने के लिए 20 स्थानों पर एयर प्यूरिफायर लगवाए जाएंगे, इसके अलावा कई स्थानों पर प्रदूषण मापक सेंसर और मॉनिटर भी लगवाए जाएंगे। सीईओ वी एस कुंडू ने बताया कि मोबिलिटी प्लान में शहर की परिवहन व्यवस्था को साल 2041 के मद्देनजर तैयार किया गया है।

इसमें पैदल चलने वालों समेत, साइकिल, बस, कार, दोपहिया वाहनों के चलने के लिए स्थान निश्चित किया जा रहा है। इसके अलावा बैठक में दिल्ली-गुरुग्राम को जोड़ने वाली उस लिंक रोड पर भी चर्चा की गई, जिसे अरावली के बीच से बनाया जाना है। इसे लेकर भी सदस्यों ने अपने विचार रखे। बैठक में आरएसी के सदस्यों ने अपने क्षेत्र में आ रही ग्रीन बेल्ट, सीवर, पानी समेत अन्य स्थानीय और शहरी समस्याओं को भी अधिकारियों के समक्ष रखा।



Source link